State

#WomanHelpline 181 अभयम गुजरात में हुई लांच, जानें क्या है इसकी ख़ासियत 

जैसा कि हम सभी जानते ही हैं कि देश में क्राइम केस लगातार बढ़ते जा रहे हैं. ऐसे में महिलायों के बलात्कार और क़त्ल की ख़बरे आए दिन अख़बारों की हैडलाइनस बनी रहती हैं. जिसे देख हर कोई कानून पर ऊँगली उठाता नजर आ रहा है. लोगों की यह विचारधारा बन चुकी है कि देश की सभी महिलाएं गलियों- बाज़ारों से लेकर घरों में भी असुरक्षित है. ऐसे में सरकार आए दिन महिलायों की सुरक्षा के लिए ठोस कदम उठा रही है. कुछ समय पहले ही दिल्ली में औरतों के लिए एक ख़ास Android App लांच किया गया था. इस app को “181′ का नाम दिया गया था. इसी एप्लीकेशन की मदद से बीते दिनों एक लड़की के बलत्कार को रोका जा सका. ख़बरों की माने तो लड़की का अपना पिता उसके साथ नाजायज़ संबंध बनाना चाहता था लेकिन पड़ोसियों ने समय रहते “181 महिला हेल्पलाइन” पर फोन करके पीडिता की जान बचा ली.

वहीँ बात अगर मोदी जी के जन्म स्थान गुजरात की करें तो, अब गुजरात में भी इस महिला हेल्पलाइन एप्लीकेशन को लांच कर दिया गया है. इस एप्लीकेशन का नाम “Abhayam 181” रखा गया है. यह एप्लीकेशन Google Play Store पर आसानी से उपलब्ध है. आप इसको डाउनलोड कर सकते हैं ताकि भविष्य में आपको किसी तरह की दिक्कत का सामना ना करना पड़े. चलिए जानते हैं आखिरकार यह एप्लीकेशन क्या है और इसके महिलायों को क्या क्या फ़ायदे मिल रहे हैं-

कैसे करता है यह एप्लीकेशन काम?

181 Woman helpline app launched in Gujarat

आपकी जानकारी के लिए हम आपको बता दें कि यदि आप अपने एंड्रॉयड फोन में इस एप्लीकेशन को डाउनलोड करते हैं तो आप अपने घर की महिलाओं के प्रति सचेत रह सकते हैं। इस एप्लीकेशन में एक कॉल का बटन दिया जाता है जिसको दबाने से मुसीबत की स्तिथि में महिला की लोकेशन वुमन हेल्पलाइन केंद्र तक पहुंच जाती है और वह तुरंत उस लोकेशन पर पहुंचकर उस महिला को खतरे से बचा सकते हैं। इसके इलावा इस एप की मदद से आप अपने फोन को केवल “शेक” करके भी अपनी लोकेशन साझी कर सकते हैं। जिससे पुलिस तुरंत घटनास्थल पर पहुंच जाएगी।

वीडियो या फ़ोटो भी भेजा जा सकता है

इस appकी मजेदार बात यह है कि अगर आपको कहीं किसी महिला के साथ बदतमीजी होते हुए दिखाई देती है तो आप अपने फोन के कैमरा में उसका फोटो या वीडियो बनाकर इस हेल्पलाइन नंबर पर भेज सकते हैं इसके चलते मदद का एक मैसेज उस महिला के पांच अन्य रिश्तेदारों को पहुंच जाएगा।

ये लोकेशन्स पहुंचती हैं

जब कोई इस एप्लीकेशन का इस्तेमाल करता है तो 3 तरह की लोकेशन अभायाम 181 तक पहुंच जाती है। जिनमें से पहले लोकेशन उस व्यक्ति की होती है जिसके लोकेशन सेवर ऑन किया गया है, दूसरी लोकेशन व्यक्ति के टेलीकॉम सर्विस प्रोवाइडर की होती है जबकि तीसरी लोकेशन व्यक्ति के रजिस्टर्ड पते की होती है। यह सुविधा 24 घंटे उपलब्ध रहती है। जो भी महिला या व्यक्ति इस एप्लीकेशन का इस्तेमाल करता है उसकी सारी कन्वर्सेशन सीक्रेट रखी जाती है। देखा जाए तो यह सरकार द्वारा महिलाओं की सुरक्षा के लिए सबसे अच्छी पहल है।

Tags

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

 

Close