National

बड़ी ख़बर: मेजर गोगोई के ऊपर होगी कोर्ट की करवाई

हमारे भारत देश की रक्षा के लिए बॉर्डर पर जवान हर समय तैनात रहते हैं इसीलिए हम लोग चैन की नींद सो पाते हैं. सेवा के जवानों को देश का रक्षक माना जाता है. इन्ही में से मेजर गोगोई भी एक ऐसे सेना जवान हैं, जिन्हें एक समय में “हीरो” का टैग दिया गया था.  “ह्यूमन शील्ड” के नाम पर जीप से स्थानीय नागरिक को बाँधने वाले इस जांबाज़ को कईं अवार्ड मिल चुके हैं .  परन्तु हाल ही में मेजर से जुड़ा एक ऐसा मामला सामने आया है, जिसने  इंसानियत को शर्मसार कर दिया. ख़बरों की माने तो 23मई को जम्मू कश्मीर में मेजर लीतुल गोगोई को एक होटल में महिला के साथ रंगे हाथों पकड़ा गया था. जिसके बाद इस घटना ने कानूनी रूप ले लिया.

ये था पूरा मामला

मेजर की करतूत के बाद कोर्ट ऑफ इंक्वायरी (COI) का गठन  किया गया था ताकि मेजर के दोषी होने या ना होने पर जांच पड़ताल की जा सके. वहीँ अब कोर्ट ने मेजर के खिलाफ फैसला सुना दिया है और उन्हें दोषी करार दे दिया है. दरअसल, यह मामला मेजर गोगोई का है. बीती 23 मई को वह अपनी ड्यूटी छोड़ कर एक महिला के साथ होटल में रंगरलिया मन रहे थे जिसके बाद उनके खिलाफ सख्त एक्शन लेने की डिमांड रखी गई. फ़िलहाल पुलिस ने मेजर के खिलाफ दो केस दर्ज किये हैं जिनमे से एक केस ड्यूटी के समय क्षेत्र से दूर रहने का है और दूसरा महिला के साथ होटल में पकडे जाना है.

पहले भी कर चुके हैं कांड

आपकी जानकारी के लिए हम आपको बता दें कि 31 मई तक मेजर को बेकसूर बताया जा रहा था. लेकिन 26 मई को आर्मी चीफ जनरल बिपिन रावत ने पहलगाम ने ऐलान किया था कि यदि मेजर सच में दोषी हैं तो वह खुद उन्हें सख्त से सख्त सज़ा दिलवाने के लिए आगे आएंगे. सूत्रों के अनुसार COI ने अभी तक इस मामला पर पूरी तरह से करवाई नहीं की ऐसे में सबको कानून के फैसले का इंतज़ार है.

 

आर्मी चीफ जनरल बिपिन रावत ने बताया कि अगर मेजर गोगोई दोषी पाए जाते हैं तो उन्हें ऐसी सज़ा दी जाएगी जो इंसानियत के लिए एक याद बन कर रह जाएगी. आपको ये जानकार हैरानी होगी कि इससे पहले भी मेजर गोगोई अपनी जीप पर एक नागरिक को “ह्यूमन शील्ड” के रूप में बाँध चुके हैं जिसका आर्मी चीफ द्वारा भरपूर समर्थन किया गया था और साथ ही गोगोई को इस बहादुरी के लिए पुरूस्कार भी दिया गया है. अब देखना यह है कि मेजर के खिलाफ कानून क्या फैसला लेता है.

Tags

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

 

Close