National

पूर्व BJP नेता जसवंत को अभी तक नहीं बताई गयी अटल जी की मौत की ख़बर, मगर क्यूँ?

साल 2018 भारत देश के लिए कभी न भूलने वाला समय बन गया है. आये दिन बड़ी बड़ी हस्तियों की मौत की ख़बर से पूरा देश शौक में डूबा हुआ है. बीती 16 अगस्त को सबके चहेते पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी नहीं रहे. उनकी मृत्यु से पूरा देश आंसूओं के सैलाब में डूब गया था. आपको बता दें कि पिछले काफी समय से खराब स्वस्थ्य के चलते अटल जी को दिल्ली के एम्स में दाखिल करवाया गया था. जहाँ स्वतंत्रता दिवस वाले दिन उनकी तबियत काफी बिगड़ गयी और उन्हें लाइव सपोर्ट सिस्टम पर रखना पड़ा. एक दिन के कष्ट सहने के बाद आखिरकार उन्होंने 16 अगस्त की शाम पांच बज कर पांच मिनट पर दुनिया को अलविदा कह दिया.

जहाँ एक तरफ पूरा देश अटल जी की मृत्यु से टूट चुका है, वहीँ आज हम आपको एक ऐसे शख्स के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसे अभी तक अटल जी की मृत्यु की भनक नहीं है. दरअसल, यह शख्स कोई और नहीं बल्कि पूर्व भाजपा लीडर जसवंत सिंह है. विदेश मंत्री रह चुके जसवंत सिंह के बेटे और राजस्थान के बारमेर जिले के भाजपा विधायक मानवेंद्र सिंह ने हाल ही में इस बात का ख़ुलासा किया है.

दरअसल NDTV के ब्लॉग में मानवेंद्र सिंह ने इस बात की वजह भी बताई है. मानवेंद्र ने बताया कि उनके पिता जसवंत सिंह काफी समय से बीमार चल रहे हैं हाल ही में उनकी ब्रेन हेमरेज की वजह से हालत इतनी गंभीर हो गई थी कि वह कोमा में चले गए थे. ऐसे में उन्हें उनके मित्र की मौत की खबर देना, उनके बस की बात नही है. मानवेंद्र ने बताया कि जसवंत सिंह काफी समय से डॉक्टरों की निगरानी में है ऐसे में अगर वह अपने पिता को उनके पुराने मित्र के निधन का समाचार बताते हैं तो उनकी सेहत में भारी गिरावट देखने को मिल सकती है.

इस ब्लॉग में मानवेंद्र ने लिखा कि अटल जी और उनके पिता की दोस्ती 40 वर्षों से भी पुरानी है. मानवेंद्र के अनुसार अक्सर जसवंत को लोग अटल जी का हनुमान कहते थे. मानवेंद्र ने बताया कि जिन्ना पर लिखी गई किताब के विवाद के बाद उनके पिता को भाजपा पार्टी से निष्काषित कर दिया गया था उस समय केवल अटल जी ही थे जिन्होंने उनके पिता का साथ दिया. लेकिन वक्त ने दोनों राम-हनुमान की जोड़ी को नजर लगा दी और जसवंत सिंह का एकमात्र साथी उनसे छीन लिया.

Tags

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

 

Close