International

NASA ने सूरज पर भेजा दुनिया का पहला यान, मिशन में खर्च हुए 100 अरब रूपये

नई दिल्ली: जानी मानी अमरीकी अंतरिक्ष कंपनी NASA ने हाल ही में सूरज के बारे में रिसर्च करने के लिए अपना पहला अंतरिक्षयान रवाना कर दिया है. इस यान की लांच तारिख शनिवार को बताई जा रही थी लेकिन अचानक आई किसी तकनीकी खामी के चलते उन्हें इस लांच को टाल कर एक दिन आगे करना पड़ा. इस अंतरिक्ष यान का नाम “पार्कर सोलर प्रोब” (Parker Solar Probe) रखा गया है. इस यान की ख़ासियत यह है कि यह दिखने में एक कार के आकार का है. नासा इस यान को सूरज की सतह से लगभग 40 लाख मील दूर छोड़ेगा.

आपकी जानकारी के लिए हम आपको बता दें कि सूरज को और अधिक करीब से जानने के लिए नासा ने अपना यान अंतरिक्ष में भेजा है. उनका उद्देश्य इस बात के बारे में पता लगाना है कि किस प्रकार से ऊर्जा और गर्मी सूरज को घेर कर रखते हैं. इसके इलावा का मकसद परिमंडल यानी सूर्य के आसपास असामान्य वातावरण के रहस्य का पता लगाना है. गौरतलब है कि आज तक सूर्य के इतने करीब से कोई अंतरिक्ष यान नहीं गुजरा है. ऐसे में इस यान के परिणाम देखने लायक होंगे.

खबरों की मानें तो यह ऐसा पहला मानव निर्मित अंतरिक्ष यान है जो कि सूर्य के बारे में कई सारे अध्ययन करेगा. इस यान को बनाने के लिए इसमें चार हैवी रॉकेट लगाए गए हैं. हालांकि इसे सूरज तक पहुंचने में कुछ महीने का समय लगेगा लेकिन खास बात यह है कि नासा ने इस प्रोजेक्ट पर लगभग 100 अरब से अधिक रुपए खर्च किए हैं.

इस अंतरिक्ष यान का नाम विज्ञानिक यूजैन पार्कर के नाम पर रखा गया है. क्योंकि पार्कर ही एकमात्र ऐसे वैज्ञानिक थे, जिन्होंने 1958 में सौर हवायों के बारे में खुलासा किया था और उनके अस्तित्व के बारे में बताया था. पार्कर ने पता लगाया था कि आवेशित कणों और चुंबकीय क्षेत्रों की एक धारा होती हैं, जो कि सूर्य से लगातार निकलती रहती हैं.

 

Tags

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

 

Close